About Me

My photo

Mr. Zuber Ahmed Khan is a Muslim by birth, has got strong and stiff views on Islam. Mr. Zuber believes in Humanity when Islam is in trouble. He believes any Muslim Men or Women should die for Islam when required. Mr. Zuber Ahmed Khan completed his Post Graduate in Public Administration in the year 1995 and stands in first class. He completed his Diploma in Computer Hardware and Software Engineering from Bombay. Completed Masters Degree in Journalism & Mass Communication and stand in first Class.

Friday, 30 June 2017

March to Jantar Mantar, जन्तर मन्तर कूच करो

Brathrane Islam Asslamo Alikum,


As all of you know the Hindu Terrorist’s attacks increased drastically on Muslims in India.  In two days four Muslims killed in Hindu Terrorists attacks in India.  Two in Jharkhand one in Gazipur, Nonhara Uttar Pradesh and one in Bihar.

Constitution of India guaranteed Right to live to every citizen, which is prime right of any citizen.  These Hindu terrorists snatching your right to live, to overcome this threat and counter them gather at Jantar Mantar New Delhi on 22nd July 2017.

Moment back I had discussed with the top executive of the event and I am attending the protest.  Further line of action will decide after the event.  It is request with all of you to attend the protest and make it grand success.

Zuber Ahmed Khan
Journalist


प्यारे इस्लामिक भाइयो अस्सलामो अलयकुम,

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत में मुसलमानों पर हिंदू आतंकवादी के हमलो  में भारी वृद्धि हुई है। भारत में हिंदू आतंकवादी हमलो में दो दिन में चार मुस्लिम मारे गए। दो झारखंड में एक गाजीपुर, नान्हारा उत्तर प्रदेश और एक  बिहार में.


भारत के संविधान ने हर नागरिक को जीने का अधिकार दिया है, जो कि किसी भी नागरिक का मुख्य अधिकार है जो के इन हिन्दू अतक्वादीओ दूवरा आपसे छीना जा रहा है. इन हिंदू आतंकवादियों को काबू करने ओर इस खतरे को दूर करने के लिये 22 जुलाई 2017 को जंतर मंतर नई दिल्ली में इकट्ठा होइये।

थोड़ी देर पेहले  मेने इस विषय के शीर्ष कार्यकारी के साथ चर्चा 
की थी और मैं विरोध में भाग ले रहा हूं। इवेंट के बाद अगली 
रणनीति पे फैसला होगा। यह आप सभी के साथ अनुरोध है 
कि आप विरोध में भाग लें और इसे शानदार सफलता दें।
 
ज़ुबेर अहमद खान
पत्रकार

This is the army of ‘EUNUCH’


This is the army of ‘EUNUCH

Friends it is requested to go through my entire article, and then say whether you are proud of India's army.

Every citizen of every nation loves the army of his country, they proud on country's army because Army defend the civilians from any external aggression.  In the same way, the people of India also love their country's army and why they do not love to the Army as it protect the country. More recently, Uttar Pradesh's leader and Muslim face Azam Khan has some tattoo on the Indian army, I being an Author, human and Journalist support the statement.  As soon as the comment of Mr. Azam on army appears in the public domain, the anonymous people started trolling him.  In trolling, such faces also become excited and start trolling one who never gets excited even if someone abuse to their parents.


On the statement of Mr. Azam a tweet of a special oblivious face, come in the knowledge who was looking for light from the darkness. A BJP leader from Haryana said, "Azam Khan, you better remember so much, you are alive in India, because of this army who is guarded on the borders, to whom you are humiliating".  I would like to tell that anonymous face of Haryana, killing and keeping alive is the act of God and not the work of any rapist.  If Indian army is not rapist, then why from everywhere the same kind of news came out, where the India's army deployed. The Private Parts of the soldiers were cut in Sukma. Mr. Azam is referring to Kashmir that the secret components of the Jawans were cut. Sharmila Aaron was sitting on hunger strikes for 18 years in the North East against the rioting of the army and crime of rape on women.   Women in the northeast danced naked, against the growing incidents of rape of the Indian Army. There is a rage against the tyranny of women by the army in Assam.


Every citizen should be proud of the army of the country but should not be blind enough to ignore and overlook the oppression and torture as it is committed by army of the country. Surely, I would like to submit my say and elucidate couple of points, firstly the Ministers, those who are creating drama and speaking the rubbish that they can give life and take life for army is just show off,  how many BJP's minister’s children are contributing to the army.  Secondly intention of the youths behind the joining of Army is not to serve for the country, but it is a motive to take the benefit that comes after the recruitment of the army.  They will get every items from the canteen in the subsidy rates, in the rail and other transports subsidy, pension, flat subsidy rate, status etc. etc.  If joining of Army because of the country’s love, if all facilities being given by the government withdrawn, even then the people will come to join the army.


As far as love to the Army is concerned, as a citizen and journalist I would never want to show blind love, if army of the country is going wrong, then the army will have to stand in the witness box and the army will have to face the court martial. Being a Journalist I used to receive the videos of the barbarism and torture of the army on the citizens of Indian occupied Kashmir.   Recently some videos came to me from the News Agency of Kashmir and in every video single unarmed Kashmiri thrashed, tortured mercilessly by 6 soldiers gun on the chest, and shower the sticks on the half killed Kashmiri youth, when soldiers become fatigue after thrashing with stick and slap to the alone, unarmed Kashmiri they asked the young man to chat Pakistan Murdabad, Hindustan Zindabad.  In one another video one alone unarmed Kashmiri youth is going on road suddenly surrounded by 6-7 soldiers and start hitting him with punch, kicks and sticks mercilessly.   One of them asked to bow down, bow down and start abusing with filthy and abusing language on mother and sister.  Kashmiri youth just replied I am in fast.  In reply of Kashmiri youth one of the soldiers asked who told you to keep fast, did we ask you to keep fast?  Will you keep fast from tomorrow tell us, will keep from tomorrow.  Dying man what can do better, he agreed the terms of soldier and promised not to keep fast from tomorrow.


So this also proves that the Indian army is not only committing barbarism and scandal but also removing a Muslim from his religious etiquette.  Because a Muslim bow down only in front of Allaha, and also keeps fast for Allaha.


Some blind devotees called these all videos are fabricated, false or they are just filmmakers.  Those videos may be fabricated as per the blind devotees but I am the living proof of the barbarism and torture of the army.  On my last Kashmir tour, I saw the real face of the Indian Army's persecution and oppression.   I was going from Srinagar to Sopore.  There was a Maruti 800 going ahead of my car, which was driving by a 20-22 years old young man. Suddenly from one side, a Jeep of the Indian Army put it in front of the Maruti and 6-7 young Javans with guns stop the Maruti and dragged that boy out of the car with collar and started thrashing him mercilessly with punch, kicked and slapped.  I was horrified to see all this. The gate of that Maruti car was left open and they took the boy hitting him with slap into the nearby warehouse type of a large army structure.  Warehouse contains a large door of a tin. The boy looked decent and educated. I had a video camera but could not collect the courage to shoot the entire scene, thought that this is not my State and when army can cross all the limits of oppression and vandalism and persecution even with the local people, so they never hesitate to shoot me, after that cook the story and will accuse that an attacker was killed.  When I asked the driver of the car, what is all that is, he answered this is here the everyday’s story.  Now his death is confirmed and next day news will come in the papers one terrorist killed in encounter with Army.  He further said if he had taken him in the right place he will be alive, unless he had seen Army gun down on the road many times. 


I would like to ask all the people of India who give the title of 'Boys of Brave heart' to the Indian Army, whenever any Kashmiri youth looks alone, then why at that time 6-7 or more of the army  soldiers attacked on him with guns, punch, kicked and doing atrocities, torture.   If the soldiers of Indian army are the 'Boys of Brave hearts' then why they required 6-7 soldiers with guns on the single unarmed innocent Kashmiri?  Why they can not deal one to one basis.  Fairly speaking because the soldiers of Indian army are afraid even with the unarmed Kashmiri citizens, therefore 6-7 or more Army soldiers attacked on alone, unarmed, innocent Kashmiri with the guns.


My article is dedicated to the KashmiriSangbazand innocent people who are victimized by the Indian Army's barbarism, torture and persecution.  On my group 'Autonomous Journalist' and my page Journalist, Zuber Ahmad Khan, several videos can be visible how Indian Army oppressed, torture and persecute the innocent, unarmed Kashmiri people.


Zuber Ahmad Khan

Journalist

Thursday, 29 June 2017

ये हे नपुंसको की फौज

दोस्तों आपसे निवेदन हे मेरा पूरा लेख पढ़िए और फिर कहिये क्या आपको भारत की सेना पे गर्व हे

हर देश के नागरिक को अपने देश की सेना से प्यार होता है देश की सेना पे अभिमान होता हे उसी तरह भारत की जनता को भी अपने देश की सेना से प्यार हे और क्यों हो वो देश की रक्षा जो करती है.   अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश के कद्दावर नेता और मुस्लिम चेहरा आज़म खान ने भारत की सेना पे कुछ टिप्पड़ी की जिसका में एक पत्रकार और इंसान की हैसियत से समर्थन करता हूँ.   आज़म साहब के सेना के ऊपर कमेंट पब्लिक डोमेन में आते ही गुमनाम लोगो का उनको ट्रोल करने का सिलसिला शुरू हो गया.  ट्रोलिंग में ऐसे चेहरे भी उत्तेजित हो कर ट्रोल करने लगे  जो अपने माता पिता को गाली देने पे भी उत्तेजित नहीं होते थे


आज़म साहब की टिप्पड़ी पे एक विशेष गुमनामी चेहरे का ट्वीट देखने को मिला जो अंधेरो में उजाले की तलाश करता दिख रहा था.  किसी हरयाणा के बीजेपी के संघी ने आज़म साहब की टिप्पड़ी पे ट्वीट किया "आज़म खान इतना ज़रूर याद रखना की हिन्दुस्तान में तू जिन्दा इसी लिए हे क्योकि सीमाओं पर सेना पहरा दे रही हे जिसे तुम अपमानित कर रहे हो में हरयाणा के उस गुमनाम चेहरे को कहना चाहता हूँ मारना और जिन्दा रखना उपरवाले का काम हे किसी बलात्कारी का नहीं।  फिर अगर भारत की सेना बलात्कारी नहीं होती तो सब जगह जहा जहा भारत की सेना के जवान तैनात हे एक ही जैसी खबरे कहे को सामने आती हे. सुकमा में जवानो के गुप्त अंग काटे गए. आज़म साहब कश्मीर का ज़िक्र कर रहे है के जवानो के गुप्त अंग काटे गए. शर्मीला एरोन १८ साल तक नार्थ ईस्ट में सेना के ज़ुल्म और महिलाओ पे बलात्कार के खिलाफ भूख हड़ताल पे बैठी थी.  नार्थ ईस्ट में महिलाओ ने नग्न नाच किया था भारतीय सेना की बढ़ती हुई बलात्कार की घटनाओ के खिलाफ।   आसाम में सेना के खिलाफ महिलाओ पे अत्याचार के खिलाफ एक रोष हे. 

देश की सेना पे हर नागरिक को अभिमान होना चाहिए लेकिन अँधा प्यार नहीं होना चाहिए जो ज़ुल्म और बर्बरता को भी इसलिए अनदेखा कर दे क्योकि वो देश की सेना कर रही हे.  यहाँ अपना पक्ष रखते हुए दो बाते ज़रूर साफ़ करना चाहूँगा एक जो मंत्री संत्री देश की सेना के लिए जान देने और जान लेने के जज़्बे का ढोंग और दिखावा करते हे कितने बीजेपी के मंत्रीओ के बच्चे सेना में अपना योगदान दे रहे हे.  दूसरी बात सेना में भर्ती होने के पीछे देश सेवा मकसद नहीं होता हे परन्तु जो लाभ  सेना में भर्ती होने के बाद प्राप्त होता हे उसको लेना मकसद होता हे. कैंटीन से हर वस्तु सब्सिडी भाव में, रेल तथा दुसरे ट्रासंपोर्ट में सब्सिडी, पेंशन, फ्लैट सब्सिडी रेट मेंस्टेटस वगेरा वगेरा.  अगर देश प्रेम हे तो क्या सरकार दुवारा दी जाने वाली सारी सुविधाय वापस ले ली जाए फिर भी जनता सेना में भर्ती होने के लिए आएगी।


जहा तक सेना का सवाल हे में बहैसियत एक नागरिक और पत्रकार कभी भी अँधा प्यार नहीं दिखाना चाहूँगा, अगर देश की सेना से कुछ गलत हो रहा हे तो सेना को भी कटघरे में खड़ा होना पड़ेगा और सेना का भी कोर्ट मार्शल होगा.   मुझे बहैसियत पत्रकार सेना के ज़ुल्म और बर्बरता के वीडियो कश्मीर से प्राप्त होते रहते हे. हाल ही में कुछ वीडियो मेरे को कश्मीर की न्यूज़ एजेंसीज से प्राप्त हुए और हर वीडियो में अकेला निहत्ता कश्मीरी और उसके ऊपर ज़ुल्म करते जवान,  बन्दूक उसके सीने पे और लाठीओ की बरसात करते अधमरे कश्मीरी पे सेना के जवान. फिर जब लाठीओ और थप्पड़ो से सेना के जवानो का दिल भर जाता तो कश्मीरी निहत्ते अकेले नौजवान को कहा जाता बोल पाकिस्तान मुर्दाबाद हिन्दुस्तान ज़िंदाबाद।  एक विडिओ में एक अकेला निहत्ता नौजवान रोड पे जा रहा होता है, और उसको - जवान घेर लेते है और लातो, घूसों और डाँडो की बरसात कर देते हे फिर एक कहता हे सजदा कर सजदा कर माँ, बहिन की गन्दी गालिया देते हे. वो कश्मीरी नौजवान कहता हे में रोज़े से हूँ. तो उसपे भारतीय सेना का एक जवान कहता हे किस ने कहा था रखने को हमने कहा था क्या; बोल. कल से रखेगा रोज़ा बोल; कल से रखेगा. मरता क्या नहीं करता उस बेचारे ने कहा नहीं रखूँगा।  तो इससे य भी साबित होता हे के भारतीय सेना न सिर्फ बर्बरता और तशद्दूत कर रही हे बल्कि एक मुस्लिम को उसके मज़हबी एतेक़ाद से भी दूर कर रही हे. क्योकि एक मुलसमान सजदा सिर्फ खुदा के सामने करता हे, और रोज़ा भी खुदा के लिए रखता हे.  

कुछ अंध भक्तो ने उन सभी विडिओ को झूटा और फ़िल्मी करार दिया लेकिन सेना की बर्बरता का में जीता जागता सबूत हूँ.  मेरे पिछले कश्मीर दौरे पे मेने भारतीय सेना का बर्बरता और ज़ुल्म का असली चेहरा और रूप देखा। में श्रीनगर से सोपोर जा रहा था. मेरी गाडी के आगे एक मारूति ८०० जा रही थी जिसको एक २०-२२ साल का नौजवान चला रहा था.  अचानक दूसरी तरफ से भारतीय सेना की एक जीप ने उस मारूति वाले के सामने लगा दी और - जवान बंदूकों से लेस उस मारूति वाले को ज़बरदस्ती कालर पकड़ के कार से बहार निकाल के मार पीट शुरू कर दी. में सब देख के भोचक्का रह गया. उस मारूति वाले की कार का फाटक खुला रह गया और फिर उसको लातो और थप्पड़ो से मार पीट करते हुए एक बड़ा सा सेना का वेयर हाउस टाइप था उसमे ले गए.  जिसमे एक पत्रे का बड़ा सा दरवाज़ा था.  लड़का सभ्य और पड़ा लिखा दिख रहा था.  मेरे पास विडिओ केमेरा था लेकिन वो समूचा द्रश्य शूट करने की हिम्मत ही नहीं जुटा पाया, सोचा पराया स्टेट हे और सेना जब वहा के लोकल नागरिको के ऊपर ज़ुल्म और बर्बरता की सारी हदे पार कर सकती हे तो अगर मेने विडिओ शूट किया तो मुझे  ही गोली मार देंगे और इलज़ाम लगा देंगे की एक आतकवादी मारा गया.  मेने जब गाडी के चालक से पुछा सब क्या हे तो उसने जवाब दिया साहब तो यहाँ रोज़ का किस्सा हे. अब इसकी मौत पक्की हे और दुसरे रोज़ पेपर में न्यूज़ आएगी की एक आतकवादी सेना के साथ मुठभेड़ में मारा गया.  आगे उसने कहा तो ठीक हे के उसको अंदर ले गए मेने तो कई बार रोड पे गोली से मारते हुए देखा हे


में उन सभी भारत के लोगो से पूछना चाहता हूँ जो भारत की सेना को 'बॉयज ऑफ़ ब्रेव हर्ट्स' का खिताब देते हे जब भी एकेला निहत्ता कश्मीरी नौजवान दिखता हे तो - या उससे ज़्यादा सेना के जवान बंदूकों के साथ उसपे क्यों टूट पड़ते हे.  और उस अकेले पे तशद्दुत और बर्बता क्यों करते हे. अगर भारत की सेना के जवान 'बॉयज ऑफ़ ब्रेव हर्ट्सहे तो अकेले निहत्ते कश्मीरी पे - बंदूकों  से लेस भारत के सेना की क्या ज़रूरत हे. एक के ऊपर एक काफी हे.  क्योकि भारत की सेना के जवानो को खौफ हे निहत्ते कश्मीरी नागरिको से भी वो डरते हे इसलिए अकेले निहत्ते पे - या उससे ज़्यादा बंदूकों के साथ हमला करते हे

मेरा लेख कश्मीरी संगबाज़ो और निर्दोष जनता को समर्पित हे जो भारतीय सेना की बर्बरता और जुल्म के शिकार हो रहे हे.  मेरे ग्रुप 'ऑटोनोमस जर्नलिस्ट' और मेरे पेज 'जर्नलिस्ट जुबेर अहमद खान' पे कश्मीरी जनता के ऊपर भारतीय सेना के ज़ुल्म की बोहोत सी वीडियो दिख जायेगी.


जुबेर एहमद खान 
पत्रकार