Tuesday, 26 December 2017

Terrorist is alive.


Let the dust of war be settle down sprouted in UN between Humanity supported Nations against Terrorists Nations, wherein terrorists lost miserably.

My article is based on the factual evidence of the persecution, torture, mass killing of Palestine civilians.  It is the reply of Author to all the people of Hindu State, their Media Houses and specially to a langoor lady Journalist Sweta Singh, who criticised the voting of India against Terrorism, barbarism, killing of Israel to Palestine Citizens.  I hereby prayed and will ask question with Langoor Lady Journalist who openly supported to Terrorists, if someone committed rape, gang rape on you, thrown you out of your home forcibly, killed your ancestors, molested to your spinster girls and on your plea people voted in your favour and did not entertained the culprits, but if some part of the people supported to the culprits openly how your sentiments will be hurt. 
Terror, torture and third degree persecution of Israel on innocent Civilians of Palestine exposed in front of international community in United Nation.  Israel humiliated severely on the issue of Jerusalem, the capital of Palestine and ancient city the third blessed city for Muslims in which Masjid Qudes (Al Aqsa) exist.  To understand the conflict between Palestine and imposed terror, fear, persecution of Israel we have to refer the pages of History.
In the late 1800s a small fanatic movement (Terrorism) began in Europe in through politically motivated policy called as “Political Zionism”.  Its goal was to create a Jewish State somewhere in the world in a legal way to create terrorism, mass killing and crime against humanity. Its leaders settled on the ancient and long inhabited Arab land of Palestine for the location of this state.   Palestine’s population at this time was consists of approximately 96% non-Jewish only Muslims and some Christians.  Palestine the land now occupied by the imposed terror of Israel which was over 96% non-Jews in late 1800 is reduced to minority status for Arab Muslims.  Because of the Jew policy of cosmopolitan culture they encroaches the Islamic culture of Muslims sometime by force some time through love and affairs and sometime eliminate them by gun.

In the 1930s, Jewish land ownership had increased from approximately 1% to just over 6% of the land, and violence had increased as well. With the emergence of several Zionist terrorist gangs (whose ranks included a number of future Prime Ministers of Israel), there was violent conflict between people of all faiths. Numerous people of all ethnicities were killed – but mainly the large majority of them Christian and Muslim Palestinians.  In the year 1947-49 over more than 750000 Palestinian men, women and Children were expelled from their homes by violent Israeli forces.  During that period Zionist Forces committed 53 serious massacres, mass killing, rape, gang rapes and destroyed more than 600 Palestinian villages and towns. 


Injustice Continues

 

Even after couple of centuries since after 1800 the European policy to create “Political Zionism” and over 60 years since terror of Israel imposed on May 14, 1948, this profound injustice has continued and still haunted to Palestine Arabs every next day who are the real owner of the land but facing with serious, persecution, torture, killing crime against women and children; and owner of Palestine become the largest refugees to remaining refugee population in the world.
1.3 million Palestinians live in Israel as “Israeli citizens,” but despite their status as citizens, they are subject to systematic discrimination. Many are prohibited from living in the villages and homes from which they were violently expelled, and their property has been confiscated for Jewish-only uses. In Orwellian terminology, Israeli law designates these internal refugees as “present absentees.”

Since after 1930 to May 14, 1948 this Arab land become from Palestine to Israel and Muslims become from owner to terrorists.  Jews aggressors become owner of the land and the indeed owner of the Arabs land become biggest refuges of the world.

Finally on 11 December 1948, 12 months prior to UNRWA's establishment, the citizens of country called Palestine become refugee legally while adopted through Resolution 194 in United Nations General Assembly.  The resolution accepted the definition of Palestinian refugees given as "persons of Arab origin who, after 29 November 1947, left territory at present under the control of the Israel authorities and who were Palestinian citizens at that date" and; "Persons of Arab origin who left the said territory after 6 August 1924 and before 29 November 1947” and who at that latter date were Palestinian citizens; 

UNGA resolution 302 (IV) of 8 December 1949 which defines refugees qualifying for UNRWA's services as "persons whose normal place of residence was Palestine between June 1946 and May 1948, who lost both their homes and means of livelihood as a result of the 1948 Arab–Israeli conflict" and also covers the descendants of persons who became refugees in 1948. The UNRWA mandate does not extend to final status. In refugee camps figure of displaced, uprooted Palestine refugee count number of registered refugees figure was about 7,26,000 to 9,14,000.


Further Israel attacked over West Bank and Gaza Strip occupied these places in the final phase where 22% of mandatory Palestine lived.  It began building settlements for Jewish Israelis on land confiscated from Palestinian Muslims and Christians. It has demolished more than 18,000 Palestinian homes since 1967. In 2005 Israel returned Gazan land to its owners, but continues to control its borders, ports, and air space, turning Gaza into a large prison, where 1.5 million people are held under what a UN Human Rights Commissioner described as “catastrophic” conditions.

Over 11,000 Palestinian men, women, and children are imprisoned in Israeli jails under physically abusive conditions (many have not even been charged with a crime) and the basic human rights of all Palestinians under Israeli rule are routinely violated. Some prisoners tortured by Israel have been American citizens. In the violence that began in 2000 through Jan 18, 2009, Israeli forces killed 6,288 Palestinians; Palestinian resistance groups killed 1,071 Israelis. Israel’s military, the fourth most powerful on earth possesses hundreds of nuclear weapons.


American Involvement

American powerful US lobby supported in the terrorism of Israel in every possible way. American Business Tycoons, taxpayers help Israel with charity approximately more than $7 million per day. In its 60 years of existence, Israel, the size of New Jersey, has received more of our tax money than any other nation on earth, said one of the American. While most Americans are unaware of these facts that their money has been misused and utilise to encourage terrorism, mass killing and utilise against the Humanity.  Our governmental actions are making us responsible for a continuing catastrophe of historic proportions and which is, in addition, creating extremely damaging enmity to the US itself. Israel partisans have played a significant role in promoting U.S. attacks on Iraq and Iran said one of the Americans.

The seeds which sowed in the late 1800 in Europe to create and the form  a policy called as “Political Zionism” sprouted in the year 1948 which displaced and uprooted local citizen and removed the name of their country from Global index list of countries.    

After 1948 all these years when Palestine Civilians are asking their land should be handover back to them which has been looted through act of terror in the year 1948; Palestine Civilians facing systematic ethnic cleansing which includes killing on the name of terror charges, loot, murder further evacuation on the demand of land of Arabs included additionally, widespread looting and several cases of rape, gang rape took place during all these years.     
 The Palestinian Holocaust is unsurpassed in history. For a country to be occupied, emptied of its people, its physical and cultural landmarks obliterated, its destruction hailed as a miraculous act of God, all done according to a premeditated plan, meticulously executed, internationally supported, and still maintained today…


During resent conflict arises after America declared Jerusalem as the capital of Israel.  Matter reached to UN and India voted in favour of Palestine and against the Terrorists.  This journalist appreciated with letter of thanks to Indian Government though his article Thank You India. on 23 Dec. 2017.  Soon Author realised his mistake when he saw the tweet of External Affair Ministry for asking favour from Muslim politician in parliament for BJP to support Palestine cause.

This journalist replied immediately to the tweets of Ms. Swaraj Thanks of any Muslim Politician, Scholar, Author, Journalist and foreign dignities was for India and not for Hindu State. It would be your ignorance if you are asking favour with Indian Muslim politicians to support you in Parliament and foreign dignities in UN for permanent status in lieu of your support to Palestine cause.  Vote of India was in favour of Humanity and against the Terror acts of Israel. Still you are looking to get political benefits for humanity cause. Shame on you Ms Swaraj.  It was expected from the EAM of Hindu State but not India.

M Badruddin Ajmal @BadruddinAjmal
Thanks Government of India for voting in the UN against US decision of Jerusalem as Israel's capital. @SushmaSwaraj
10:27 PM - 22 Dec 2017
·                2,472 Retweets
·                13,302 Likes
·               

Sushma Swaraj Retweeted M Badruddin Ajmal
Thank you Ajmal Sahib. Now you vote for us.
Sushma Swaraj added,

This journalist immediately replied to Ms. Swaraj.

Replying to @SushmaSwaraj

Thanks of NE Muslim Politician, Scholar, Author, Journalist and foreign dignities was 4 India N not for Hindu State. It would b yr ignorance if U R asking favour with Indian Muslim politicians 2 support U in Parliament and foreign dignities in UN 4 permanent status

Replying to @SushmaSwaraj
 
Vote of India was in favour of Humanity and against the Terror acts of Israel. Still U R looking to get political benefits for humanity cause. Shame on U Ms Swaraj. It was expected from the EAM of Hindu State but not India

After 9/11 attack over America a very wrong perception for Muslims are developed and they start defamed across the Globe on the name of terrorism for any country.  They are sometime eliminated on the name of terrorism some time in communal riots and their population is reduced, but still Muslims are holding second position in population index of the Globe.  Every incidents of bomb blast is linked with Muslims nevertheless in 80% terror acts, killing to the highest dignities, bomb blast carry out by CIA and Israel.  And world community is totally blind on the incidents mentioned blow.
a.            Indian army killing lakhs of civilians in KASHMIR, Not Terrorism.
b.           When America takes 3 million lives in Iraq for oil, Not Terrorism.  
c.            When Serbs rape Muslim women in Kosovo/Bosnia Not Terrorism
d.           When Russians kill 200,000 Chechens in bombings Not Terrorism.
e.            When Jews kick out Palestinians and take their land Not Terrorism.
f.          When American drones kill entire family in Afghanistan / Pakistan Not Terrorism.
g.            When entire Muslim families are killed in communal violence in India not Terrorism. 
h.           When Israel kills 10,000 Lebanese civilians and displaced 9 lakhs Palestine Muslims Not Terrorism.
When Muslims retaliate and show how you treat Muslims "Terrorism?"
How we have altered and equate the word Terrorism which is reserved only for Muslims.  We are living in the civilized society where everybody have equal rights to live and carry out their occupation but why the word terrorism is reserved only for Muslims.  In India the word terrorism was reserved for Muslims upto when the hands of Sanghi terrorists have not disclosed in bombing in Muslim dominated areas. 
The citizens of the Hindu State have moved on the same path that they were taught in childhood and every peace loving citizen walks on the same road that they have learned in his childhood.  We were taught good things in childhood, then we are going on the same path they had taught bleeding, killing, arson,  Muslim kings oppressed them, they are moving on the same road. We have been taught that if an old man trapped in the net cut and remove him from cage.  You have been taught under the new educational policy trapped everyone in the net and then exploit them all and kill those who are not trapped.


आतंकवादी अभी ज़िंदा है


युद्ध की धूल शांत होने दो जो संयुक्त राष्ट्र में आतंकवादी राष्ट्रों के खिलाफ और मानवता समर्थित राष्ट्रों के बीच फूट पड़ी थी, जहां आतंकवादी बुरी तरह से हारे।



मेरा लेख वास्तविक फिलिस्तीन नागरिकों की सामूहिक हत्या, उत्पीड़न, यातना के साक्ष्यों पर आधारित है। ये लेख हिंदू स्टेट के उन सभी लोगों, उनके मीडिया हाउसों और विशेष रूप से एक लंगूर महिला पत्रकार स्वेता सिंह को लेखक का उत्तर भी है, जिन्होंने इजरायल द्वारा फलस्तीन के नागरिको पे आतंकवाद, जंगलीवाद, हत्या के खिलाफ भारत के विरोध मतदान के लिए आलोचना की। मैंने एतद्द्वारा प्रार्थना करता हूँ और लंगूर लेडी पत्रकार और हिन्दू स्टेट की जनता से एक सवाल पूछता हूँ जो खुलेआम आतंकवादियों का समर्थन करते थे, अगर किसी ने आप पर बलात्कार, सामूहिक बलात्कार किया, आपको अपने घर से बाहर निकाल दिया, आपके वंशजो को मार डाला, आपकी कुँवारी लड़कियों के साथ छेड़छाड़ की और यदि आपकी याचिका पे आपके पक्ष में वोटिंग हुआ अभियुक्तों की सुनवाई नहीं हुई, लेकिन अगर लोगों का कुछ हिस्सा अपराधी लोगों के खुल के समर्थन में आया तो आपकी भावनाओं को कैसे आघात पहुँचेगा।

आतंकवाद, निर्दोष फिलिस्तीन के नागरिकों पर यातना और इजराइल की तीसरी डिग्री उत्पीड़न संयुक्त राष्ट्र में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने सामने नंगा हो के बेनकाब हो गया। इजरायल को गंभीर रूप से अपमान का सामना करना पड़ा है, फिलिस्तीन की राजधानी और प्राचीन शहर यरूशलेम और मुसलमानों के तीसरा पवित्र शहर के मुद्दे पर, जिसमें मस्जिद क़ुउज़ (अल अक्सा) मौजूद है। फिलिस्तीन और लादे हुए इजरायल के उत्पीड़न, आतंक, डर और संघर्ष को समझने के लिए हमें इतिहास के पन्नों को खगालने होंगे। 
१८०० के अंत में एक छोटे से कट्टरपंथी आंदोलन (आतंकवाद) यूरोप में राजनीतिक रूप से प्रेरित नीति के माध्यम से शुरू किया गया और जिसको नाम दिया "राजनीतिक ज़ियानवाद"। इसका लक्ष्य आतंकवाद, सामूहिक हत्या और मानवता के खिलाफ अपराध करते हुए कानूनी तरीके से दुनिया में कहीं भी एक यहूदी राज्य बनाना था। इसके नेता इस राज्य के स्थान के लिए फिलिस्तीन के प्राचीन और लंबे समय से बसे हुए अरब भूमि पर बस गए। इस समय फिलिस्तीन की आबादी में लगभग ९६% गैर यहूदी केवल मुसलमान और कुछ ईसाई शामिल थे। फिलिस्तीन का वो हिस्सा जो कभी १८०० सदी के अंत तक  ९६% गैर यहूदियों का था, वह इजरायल के लादे हुए आतंक से कब्जा करने के बाद अरब मुसलमानों के लिए अल्पसंख्यक का दर्जा बन गया है। क्योके यहूदी महानगरीय संस्कृति की नीति के कारण वे मुसलमानों के इस्लामिक संस्कृति पे अतिक्रमण करके, कभी अपनी लड़कीओ के प्रेम जाल में फसा के, और कभी ज़बरदस्ती बर्बरता करके और कभी उनकी बंदूक से हत्या कर के। 

१९३० के दशक तक, यहूदी भूमि स्वामित्व विस्तार लगभग १% से बढ़कर ६% से अधिक हो गया था, और हिंसा में भी बढ़ोतरी हुई थी। कई ज़िओनिस्ट आतंकवादी गिरोह (जिनके पदों में इज़राइल के भविष्य के कई प्रधान मंत्री शामिल थे) के उद्भव के साथ, हिंसक संघर्ष हुआ जिसमे सभी जातियों के कई लोग मारे गए - लेकिन उनमें से अधिकतर, ईसाई और फिलीस्तीनि मुस्लिम शामिल थे। वर्ष १९४७-४९ में ७५०००० से ज्यादा फिलिस्तीनी पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को हिंसक इजरायली सेनाओं द्वारा अपने घर से निकाल दिया गया था। उस अवधि के दौरान ज़ियोनिस्ट बलों ने ५३ गंभीर नरसंहार, सामूहिक हत्या, बलात्कार, सामूहिक बलात्कार किये और ६०० से अधिक फिलीस्तीन गांवों और कस्बों को नष्ट कर दिया।

अन्याय जारी रहता है

१८०० से दो सदीओ के बाद से "राजनीतिक जियोनिज़्म" बनाने की यूरोपीय नीति और वर्षों १४ मई, १९४८ से ले कर ६० से अधिक समय से इज़राइल का लादा हुआ आतंक, गंभीर अन्याय जारी है और फिलिस्तीन के अरबों को हर दुसरे रोज़ डरा रहा है जो लोग भूमि के असली मालिक है उनके साथ , उत्पीड़न, यातना, महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध, हत्या; जैसे संगीन जुर्म किये जाते है और फिलिस्तीन के मालिक दुनिया में सबसे बड़ी आबादी वाले शरणार्थी बन गए हैं जो दुनिया का शरणार्थी सख्या मात्र बन गए।
 
.३ मिलियन फिलीस्तीनि इजरायल में "इजरायली नागरिक" के रूप में रहते हैं, लेकिन नागरिकों के रूप में उनकी स्थिति के बावजूद वे व्यवस्थित भेदभाव के शिकार हैं। बहुत से लोगों को गांवों और घरों में रहने से मना किया जाता है, जहां से वे हिंसक कार्यवाही के बाद निकाले गए, और उनकी संपत्ति यहूदी-केवल उपयोग के लिए जब्त कर दी गई है ऑरोवेलियन शब्दावली में, इज़राइली कानून इन आंतरिक शरणार्थियों को "वर्तमान अनुपस्थितियों" के रूप में निर्दिष्ट करता है।

१९३० से १४ मई १९४८ के बाद से ये अरब भूमि फिलिस्तीन से इजरायल हो जाती है और मुलमान ज़मीन के मालिक से आतंकवादी। यहूदी आक्रमणकारी भूमि के मालिक बन जाते हैं और मूल रूप से ज़मीन के मालिक अरबों दुनिया के सबसे बड़े शरणार्थी हो जाते हैं।

अंततः ११ दिसंबर १९४८ को, UNRWA की स्थापना से १२ महीने पहले, संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपनाये गए संकल्प १९४ के माध्यम से फिलिस्तीन नामक देश के नागरिकों को कानूनी तौर पर शरणार्थी करारा दिया गया। इस संकल्प में स्वीकार किया और फ़िलिस्तीनी शरणार्थियों को परिभाषित किया, "persons of Arab origin who, after 29 November 1947, left territory at present under the control of the Israel authorities and who were Palestinian citizens at that date" and; "Persons of Arab origin who left the said territory after 6 August 1924 and before 29 November 1947 और उस आखिरी तारीख में फिलीस्तीनी नागरिक थे;

UNGA संकल्प ३०२ (IV) ८ दिसंबर, १९४९ जो UNRWA की सेवाओं के लिए अर्हता प्राप्त करने वाले शरणार्थियों को परिभाषित करता है "persons whose normal place of residence was Palestine between June 1946 and May 1948, who lost both their homes and means of livelihood as a result of the 1948 Arab–Israeli conflict" और १९४८ में शरणार्थी बनने वाले व्यक्तियों के वंश को भी शामिल किया गया है। UNRWA का जनादेश अंतिम दर्जा का विस्तार नहीं है। शरणार्थी शिविरों में विस्थापित, उखाड़े गए  फलस्तीनी शरणार्थी की संख्या में पंजीकृत शरणार्थियों की संख्या ७,२६,०००  से ९,१४,००० थी
इसके अलावा, इसराइल ने पश्चिम बैंक और गाजा पट्टी पर भी अंतिम स्थान के लिए इन जगहों पर हमला किया और कब्जा कर लिया,  जहां पर २२% अनिवार्य फिलिस्तीन रहते थे। इसने यहूदी इस्राएलिओ के लिए फिलीस्तीनी मुसलमानों और ईसाइयों से जमीन जब्त कर ली और यहूदी बस्तियों का निर्माण शुरू किया। इसने १९६७ के बाद से १८,००० से ज्यादा फिलीस्तीनी घरों को ध्वस्त कर दिया गया। २००५ में इज़राइल ने अपने मालिकों को गाज़न भूमि वापस कर दी, लेकिन अपनी सीमाएं, बंदरगाहों और वायु-स्थारी को नियंत्रित करना जारी रखा और गाजा को एक बड़ी जेल में बदल दिया गया, जहां १.५ मिलियन लोगों को क़ैदी बना लिया जिसका संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त "विपत्तिपूर्ण" परिस्थितियों के रूप में वर्णित हैं।

११,००० से अधिक फिलीस्तीन पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को शारीरिक रूप से अपमानजनक परिस्थितियों के तहत इजरायली जेलों में कैद किया गया है (बहुत से किसी भी अपराध में शामिल नहीं थे और उनके ऊपर चार्ज भी नहीं लगाया गया बस बंदी बना लिया) और इज़राइली शासन के तहत सभी फिलीस्तीनियों के मूल मानवाधिकारों का नियमित उल्लंघन होता है। इसराइल द्वारा अत्याचार करने वाले कुछ कैदी अमेरिकी नागरिक हैं हिंसा जो २००० से १८ जनवरी २००९ तक शुरू हुई, इजरायली सेना ने ६,२८८ फिलीस्तीनियों को मार दिया; फिलिस्तीनी प्रतिरोध समूहों ने १,०७१  इजरायलियों को मार डाला.  इजरायल की सेना, पृथ्वी पर चौथी सबसे ताकतवर सेना है जिसके पास सैकड़ों परमाणु हथियारों हैं।
अमेरिकी सहभागिता

अमेरिकी शक्तिशाली लॉबी ने हर संभव तरीके से इजरायल के आतंकवाद में समर्थन किया। अमेरिकन उधोग पाति, करदाता इजरायल को प्रतिदिन लगभग $7 मिलियन से ज्यादा दान पुण्य दे कर सहायता करते हैं। अपने ६० साल के अस्तित्व में, न्यूजर्सी के आकार वाले इज़राइल को, पृथ्वी पर किसी अन्य राष्ट्र की तुलना में हमारे कर का अधिक पैसा मिला है, एक अमेरिकी ने कहा। हालांकि अधिकांश अमेरिकी इस तथ्य से अनजान हैं कि उनके पैसे का उपयोग आतंकवाद को प्रोत्साहित करने, सामूहिक हत्या और मानवता के खिलाफ दुरुपयोग किया गया है । हमारी सरकारी कार्रवाइयों ने हमें ऐतिहासिक अनुपात की निरंतर विपत्ति के लिए जिम्मेदार किया हुए है और इसके अलावा, अमेरिका को स्वयं को अत्यंत हानिकारक शत्रु पैदा करने के लिए इज़राइल के पक्षपातकर्ता ने इराक और ईरान पर अमेरिकी हमलों को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है एक अमेरिकी ने कहा। 

जो बीज १८०० के अंत में यूरोप में "पॉलिटिकल ज़ियोनिज्म"  नामक एक नीति बनाने के लिए बोये गए थे और बनाई गई, वर्ष १९४८ में उसका अंकुर उग आया, जिसने स्थानीय नागरिकों को विस्थापित और उखाड़ फेंका और जिसने उनके देश का नाम को वैश्विक सूची से हटा दिया।

१९४८ के बाद इन सभी वर्षो में फलस्तीन नागरिक जब कभी अपनी जमीन उन्हें वापस सौंप दिए जाने का मतालबा करते जो १९४८ आतंकवाद के ज़ोर पे लूट ली गई थी तो फिलिस्तीन नागरिकों को योजनाबद्द तरीके से उनकी नस्ल कूशी का सामना करना पड़ता है जिसमे शामिल है आतंकवाद के नाम पे गोली मारना, लूट, हत्या; और अरबों की आगे की भूमि से निष्कासित करना शामिल है, इन सभी वर्षों में अतिरिक्त लूटपाट, बलात्कार और सामूहिक बलात्कार के कई मामलों हुए थे।

हाल ही में अमेरिका के यरूशलेम को इज़राइल की राजधानी के रूप में घोषित करने के बाद जो विवाद पैदा हुआ था फिर मामला संयुक्त राष्ट्र तक पहुंच गया और भारत ने फिलिस्तीन के पक्ष में और आतंकवादियों के खिलाफ मतदान किया। इस पत्रकार ने भारत सरकार की धन्यवाद पत्र के साथ, और अपने २३  दिसम्बर २०१७ “शुक्रिया भारत लेख के साथ सराहना की। जल्द ही लेखक को अपनी गलती का एहसास हुआ जब उन्होंने विदेश मामलों के मंत्री के ट्वीट में फलस्तीन के बदले संसद में मुस्लिम राजनेता से भाजपा को समर्थन मांगते हुए कहा
 
इस पत्रकार ने तुरंत सुश्री स्वराज के ट्वीट का उत्तर दिया किसी भी मुस्लिम राजनीतिज्ञ, विद्वान, लेखक, पत्रकार और विदेशी गणमान्य व्यक्तियों का धन्यवाद भारत के लिए था, न कि हिंदू राज्य के लिए। यह आपकी अज्ञानता होगी यदि आप फलस्तीन के बदले भारतीय मुस्लिम राजनेताओं से और विदेशी प्रतिभाओं स्थायी स्थिति के लिए यूएन में समर्थन के लिए कह रहे है। भारत का वोट मानवता के पक्ष में था और इजरायल के आतंकवादी कृत्यों के खिलाफ था। फिर भी आप मानवता के कारणों के लिए राजनीतिक लाभ प्राप्त करना चाहते हैं आपको शर्म आनी चाहिए सुश्री स्वराज। ऐसी हिंदू राज्य के विदेश मंत्री से अपेक्षा थी, लेकिन भारत नहीं थी।

M Badruddin Ajmal @BadruddinAjmal
Thanks Government of India for voting in the UN against US decision of Jerusalem as Israel's capital. @SushmaSwaraj
10:27 PM - 22 Dec 2017
·                2,472 Retweets
·                13,302 Likes
·               

Sushma Swaraj Retweeted M Badruddin Ajmal
Thank you Ajmal Sahib. Now you vote for us.
Sushma Swaraj added,

This journalist immediately replied to Ms. Swaraj.

Replying to @SushmaSwaraj
Thanks of NE Muslim Politician, Scholar, Author, Journalist and foreign dignities was 4 India N not for Hindu State. It would b yr ignorance if U R asking favour with Indian Muslim politicians 2 support U in Parliament and foreign dignities in UN 4 permanent status

Replying to @SushmaSwaraj
Vote of India was in favour of Humanity and against the Terror acts of Israel. Still U R looking to get political benefits for humanity cause. Shame on U Ms Swaraj. It was expected from the EAM of Hindu State but not India

अमेरिका पर 9/11 के हमले के बाद मुसलमानों के लिए एक बहुत ही गलत धारणा विकसित गई थी और वे विश्व में हर देश में आतंकवाद के नाम पे बदनाम किये जाने लगे।  कुछ सांप्रदायिक दंगों में कुछ आतंकवाद के नाम पर समाप्त किये जाने लगे और उनकी आबादी कम हो गई है, लेकिन फिर भी मुस्लिम दुनिया की आबादी सूचकांक में दूसरे स्थान पर हैं। बम विस्फोट की हर घटनाएं मुसलमानों के साथ जोड़ी जाने लगी, फिर भी ८०% आतंकवादी हमलो में, उच्चतम प्रतिष्ठाओं की हत्याओं में, बम विस्फोटो में,  सीआईए और इज़राइल हाथ होता है। परन्तु  इन घटनाओं पर विश्व समुदाय पूरी तरह से अंधा है।

ए।     भारतीय सेना ने कश्मीर में लाखों नागरिकों की हत्या की, आतंकवाद नहीं।
ख।     जब अमेरिका ने इराक में 30 लाख लोगों को तेल के लिए जान ली, तो आतंकवाद नहीं।
सी।    जब सर्ब्स ने कोसोवो में / बोस्निया में मुस्लिम महिलाएं पे बलात्कार किया आतंकवाद नहीं
घ।     जब रूसियों ने २००,००० चेचनों को बम विस्फोटों में मार दिया तो आतंकवाद नहीं।
ई।      जब यहूदियों ने फिलीस्तीनियों को उनके घर से निकाल के उनकी भूमि ले ली तो आतंकवाद नहीं।
च।     जब अमेरिकी ड्रोन अफगानिस्तान / पाकिस्तान में पूरे परिवार को मारता है आतंकवाद नहीं।
जी।    जब पूरे मुस्लिम परिवार भारत में सांप्रदायिक हिंसा में मारे गए तो आतंकवाद नहीं है।
एच।   जब इजरायल ने 10,000 लेबनानी और 9 लाख फिलिस्तीन मुसलमानों को मार डाला  आतंकवाद नहीं है।

जब मुसलमान प्रतिकार करते  हैं और दिखाते हैं कि आप मुस्लिमों के साथ कैसे व्यवहार करते हैं तो वो "आतंकवाद” है?
हमने किस तरह से आतंकवाद शब्द को बदल दिया है और समीकरण किया है जो केवल मुसलमानों के लिए आरक्षित है। हम सभ्य समाज में रह रहे हैं जहां सभी लोगों के पास समान अधिकार हैं कि वे जीते हैं और अपना व्यवसाय करते हैं लेकिन आतंकवाद का शब्द मुसलमानों के लिए ही क्यों आरक्षित है। भारत में भी आतंकवाद का शब्द मुसलमानों के लिए आरक्षित था जब तक संघी आतंकवादीओ के हाथ मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में बमबारी में सामने नहीं आ गया।



हिन्दू स्टेट के नागरिक उसी रास्ते पे चल पड़े है जो उनको बचपन में सिखाया गया था और हर अमन पसंद नागरिक उसी रस्ते पे चलता है जो बचपन में उसने सीखा है  हमें बचपन में अच्छी बाते सिखाई गई तो हम उसी रास्ते पे चल रहे है उनको सिखाया गया खून खराबा, मार काट मुस्लिम राजाओ ने ज़ुल्म किया तो वो उसी रस्ते पे चल रहे है अब हम वही करेंगे ऐसा सिखाया गया और वो उसी रस्ते पे चल रहे है जो सिखाया गया. हमें तो यही बताया गया है जब कोई बूढ़ा जाल पे फसे तो जाल को काट के उसे बाहर निकालो. आपको नई शिखा निति के तहत पढ़ाया गया है के सभी को जाल में फासो फिर उनका शोषण करो और जो न फसे उसको मार डालो.


ट्रिपल तलाक़ के खात्मे के खिलाफ मौलाना की दहाड़

मुस्लिम पर्सनल लॉ के शेर की दहाड़ के सामने हिन्दू स्टेट के सबसे बड़े पाखंडी और आतंकी सरगना की गीदड़ भबकी बोहोत ही दबी हुई जान पड़ती है.   प...